शोभना सम्मान-2012

Friday, June 1, 2012

कविता: अब क्यों ?


उस ऊँचे पहाड़ पे,
तनकर खड़े उस
दुर्ग की,
सबसे ऊँची
अट्टालिका के ,
चमकते कंगूरे

सा है हमारा अतीत |


है कायम अस्तित्व
यूँही नहीं ,
बिछे हैं बरसों तक ,
उसकी नींव में,
परत-दर-परत
बलिदानों के
सिलसिले |


मगर.... 
अब क्यों ?
सुस्त है तू क्षत्रिय !
त्याग अकर्मण्यता ,
कुछ विचार कर ...
झुकने लगी
तनकर खड़ी
गगनभेदी
अट्टालिकाएं .....

"विक्रम" ( Ak Rajput )

2 comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...