शोभना सम्मान-2012

Tuesday, May 8, 2012

हाँ मैं क्षत्रिय हूँ




हाँ !

में हूँ,
इस धरोहर 
का उत्तराधिकारी ! 
सींचा था मेरे पुरखों ने

जिसे अपने 
ही रक्त 
से. 


और !
बचाकर 
रखा था जिसे, 
लिखकर "क्षत्रिय" धरा पे, 
दुश्मन 
के रक्त 
से .



में
प्रहरी हूँ 
क्षत्रिय संस्कारों की 
इस अथाह दौलत का ,नीवं में 
जिसकी जौहर और शाका 
का पाषाण पिंघला 
कर डाला था 
मेरे अपनों
ने .



मुझे
फिर से 
पाना है उस रुतबे को 
और छिनना है वक़्त के जबड़ों से 
उस खोये सम्मान को
पाने को जिसे 
गुजारी थी उम्र 
युद्धों 
में 





2 comments:

  1. मुझे
    फिर से
    पाना है उस रुतबे को
    और छिनना है वक़्त के जबड़ों से
    उस खोये सम्मान को
    पाने को जिसे
    गुजारी थी उम्र
    युद्धों
    में
    उत्तम संकल्प

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...